प्रोजेक्टर क्या होता है Projector Kya Hai in Hindi

projector kya hota hai

दोस्तों आप सिनेमा हाल में जरूर कोई न कोई Movies देखने जाते होंगे जहाँ पर बड़ी Screen पर सब दिखाया जाता है और देखने का अलग ही मजा होता है। लेकिन आप चाहे तो अपने घर में सिनेमा हॉल का मज़ा ले सकते हैं इसके लिए आपको Projector लगाना पड़ेगा अपने कमरे में तो इससे पहले हम यह जान लेते हैं कि Projector क्या है (What is Projector), कितने प्रकार के होते हैं और कैसे यह काम करता है। और कैसे हम Use कर सकते हैं अपने घर में आदि जानकारी हम आपको इस पोस्ट में देगें।

प्रोजेक्टर क्या है (Projector in Hindi)

Projector को हम Computer Hardware के अंग के रूप में जानते हैं जो की सफेद स्क्रीन या किसी दीवाल पर हमें Computer के Screen पर हो रहे कार्यों को दिखाता है। जैसे हम कंप्यूटर में MS Word या Power Point पर कोई कार्य कर रहे हो या कोई Movie Computer में चला रहे हो तो Projector हमे वह एक बड़ी Screen पर दिखता है। ये Light Projection के आधार पर कार्य करता है। Light को किसी दीवार या white Screen पर चमकाया जाता है।

अगर इसके बारे में कोई उदाहरण दिया जाये तो सबसे अच्छा उदाहरण हम सिनेमा हाल का ले सकते हैं जिसमे इसकी मदद से कोई भी Movie बड़ी स्क्रीन पर दिखाई जाती है। साथ में इसका प्रयोग प्रेजेंटेशन के लिए और क्लासरूम में किसी चीज को समझाने के लिए किया जाता है। समय के साथ साथ इसका उपयोग बढ़ गया है और इसमें कई सुधार भी हुए हैं। इसकी खासियत है कि यह छोटी से छोटी Image को बड़ा करके दिखा सकता है। क्योकि इसमें Image की  Quality को बढ़ाने के लिए लेन्सेस का इस्तेमाल किया जा रहा है।

1. Portable Projector
जैसे जैसे समय बदलता गया प्रोजेक्टर में भी काफी बदलाव हुए उनमे से एक है पोर्टेबल प्रोजेक्टर जो की बड़े और छोटे क्लासरूम , Meeting Room , के लिए बहुत ही अच्छा है। इनका वजन कम और आकार में भी छोटे होते हैं यह साथ ही इनका Use आसानी से किया जा सकता है।

2. Installation Projectors (VX Series)
इन प्रोजेक्टर का उपयोग , सेमिनार , बोर्डरूम , संग्रहालय , आदि में किया जाता है। इसमें सबसे अच्छी बात यह है कि इनकी Brightness Range 5500 ANSI Lumens तक पहुँच सकती है। VX Series में कुछ प्रोजेक्टर Miracast Wireless Projection की सुबिधा देते हैं। जिसमे आप Laptop या Phone से भी प्रोजेक्ट कर सकते हैं। अगर आप Wireless Presentations करना चाहते हैं तो वह भी कर सकते हैं।

3. Short Throw/Ultra Short Throw Projectors
Short Throw Projector कम जगह में Use करने के लिए सबसे अच्छा विकल्प है। क्योकि इसको दूर स्थापित किये बिना आप Project कर सकते हैं। इसमें Installation Space कम होने के वावजूद यह अच्छी तरह से कार्य करता है। ये प्रोजेक्टर छोटे क्लासरूम , मीटिंग रूम के लिए अच्छे हैं जो कम स्पेस लेते हैं और कार्य भी सही से करते हैं। इनमे "इंटरैक्टिव फंक्शन और मेमोरी व्यूअर फंक्शन, यूएसबी डिस्प्ले फंक्शन, कॉर्नर कीस्टोन सुधार और वक्रित स्क्रीन सुधार आदि सुबिधा होती है।

4. Large Venue Projectors
इस Type के प्रोजेक्टर बड़े स्थानों जैसे सभागार , या कोई बहुत बड़ा कार्यक्रम आदि में Use किया जाता है। ये Rent पर भी मिलते हैं इनके लिए 5000 ANSI Lumens की जरूरत पड़ती है। ये बहुत ही अच्छी पिक्चर क्वालिटी देता है।

5. Home Cinema Projectors
ये प्रोजेक्टर मुख्य रूप से घर में Use होने के लिए बने होते हैं जिसके द्वारा कोई Movie देखि जा सकती है। इसलिए इन्हें होम सिनेमा प्रोजेक्टर कहा जाता है। इसकी Picture Quality बहुत अच्छी होती है साथ में Full HD में हम देख सकते हैं। अगर आप अपने घर के लिए कोई प्रोजेक्टर खरीदना चाहते हैं तो यह आपके सही Option है।

प्रोजेक्टर कैसे कार्य करता है?

प्रोजेक्टर के कार्य के बारे में जानने से पहले हमें यह भी देखना चाहिए की पहले के प्रोजेक्टर कैसे कार्य करते थे। पहले प्रोजेक्शन का तरीका आसान था जिसमे हर एक Film की हर एक फ्रेम एक छोटी सी फोटो होता था। और फोटो में से Light को गुजारा जाता था और Light फोटो में से गुजरने के बाद एक Lance पर गुजरती थी और उसके आकार को बड़ा करती थी। इसके बाद हमे एक छोटे से चित्र का बड़ा रूप देखने को मिलता था।

आज के समय Market में कई तरह के प्रोजेक्टर उपलब्ध हैं लेकिन सबके काम करने का तरीका एक ही है भले ही उनके क्षमता और Quality में अंतर हो। आज के समय के Projector का कार्य पहले के अपेक्षा अलग है। आज के प्रोजेक्टर में एक High Intensity की Light छोटे छोटे Pixels से होकर गुजरती है। आज के समय प्रोजेक्टर में किसी इमेज को दिखने के लिए 3 Display का Use किया जाता है। इसकी वजह से Light को 3 रंगों में से होकर गुजरना पड़ता है। इसके बाद Light एक Prism में जाकर उसे रंगीन बनाती है। इसके बाद Image प्रोजेक्ट होकर एक Screen पर आता है।

DLP (Digital Light Processing) Projector
DLP में Small Microscopic Mirror की बनी चिप का इस्तेमाल होता है। यह शॉर्प इमेजेज देता है इसका रेस्पॉन्स टाइम अच्छा होता है और साथ में इसमें 3D Output की क्षमता होती है। यह Active और Passive दोनों तरह के प्रजेंटेशनो को Support करता है।

LCD (Liquid Crystal Display) Projector
इनमे लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले का इस्तेमाल किया जाता है इनमे कोई Moving Parts नहीं होते और यह कम मंहगे होते हैं। LCD में अच्छा सेचुरेशन, कम नॉइज मिलता है और ये बड़े वेन्यूज में ज्यादा बेहतर काम करते हैं। हलाकि इनके Filter और मेन्टेनेन्स की जरूरत पड़ती है।

LED Projectors:-
इसमें ज्यादातर Small LED का इस्तेमाल किया जाता है ये बेहतर पिक्चर Quality प्रदान करते हैं साथ में यह कम बिजली की खपत करते हैं इनका ये LCD और DLP के मुकाबले छोटे होते हैं। इनका जीवनकाल 20,000 घण्टे से ज्यादा का होता है। अन्य प्रोजेक्टरो के मुकाबले इनकी ब्राइटनेस क्षमता सिमित होती है।

प्रोजेक्टर से प्रोजेक्ट कैसे देखे ?

अगर आपके प्रोजेक्टर है या आप इसे खरीदने जा रहे हैं तो आपको इसके बारे में जानना जरूरी है कि प्रोजेक्टर से हम Movie, आदि कैसे देख सकते हैं। तो इसका 2 तरीका है एक तो दीवार, या स्क्रीन अगर आपके पास इसकी स्क्रीन है तो आपको इसमें देखने में कोई दिक्कत नहीं होगी अगर आपके Projector का ब्राइटनेस कम है तो भी आप स्क्रीन पर अच्छे से देख सकते हैं और साथ में लाइट वाले कमरे में भी अच्छा परफॉरमेंस देता है। आप चाहे तो स्क्रीन न होने की स्तिथि में दीवार पर भी प्रोजेक्ट देख सकते हैं लेकिन इसके लिए दीवार सफेद रंग की होनी चाहिए और एकदम साफ होनी चाहिए नहीं तो पिक्चर अच्छा नहीं आएगा तो ये दो ऑप्शन है जिससे आप इसका Use कर सकते हैं।

कंप्यूटर में Projector कैसे लगाएं ?
इसको कंप्यूटर में Install करना बहुत ही आसान है आपको नीचे कुछ Step बताये गए हैं जिनसे आप आसानी से अपने कंप्यूटर में प्रोजेक्टर को कनेक्ट कर पाएंगे:-
1st Step
सबसे पहले आप प्रोजेक्टर को On कर लें इसके बाद Cable की मदद से इसको Video Port में जोड़ें इसको कंप्यूटर के साथ जोड़ने के लिए VGA पोर्ट और DVI पोर्ट का Use करें अगर आप लैपटॉप से इसको कनेक्ट करना चाहते हैं तो आपको VGA पोर्ट का ही ऑप्शन मिलेगा।

2nd Step
जब आप कनेक्ट कर ले तो अपने कंप्यूटर स्क्रीन पर Start के ऑप्शन पर क्लिक कीजिये या अपने Keyboard से Window बटन को प्रेस कीजिये और वहाँ से Control Panel के ऑप्शन पर क्लिक करके Control Panel पर आ जाइये।

3rd Step
Control Panel के Hardware & Sound Option में जाकर Connect to a Projector पर क्लिक करें इसमें कुछ ऑप्शन आते हैं जिनका मतलब है कि आप इमेज को डेस्कटॉप पर किस तरीके से दिखाना चाहेगें-

1. Computer Only- इसका मतलब है कि आप अपने इमेज को केवल कंप्यूटर स्क्रीन पर ही दिखाना चाहते हैं ना की कंप्यूटर से कनेक्ट प्रोजेक्टर पर।
2. Duplicate- इसका मतलब है कि आपकी Image कंप्यूटर स्क्रीन और प्रोजेक्टर दोनों जगह दिखाई जाएगी।
3. Extend- अगर आप इसे सेलेक्ट करते है तो Image कंप्यूटर की जगह आपके प्रोजेक्टर पर फैला दिया जाता है।
4. Projector Only- अगर आप इस Option को Select करते हैं तो आपके Image को केवल प्रोजेक्टर पर ही दिखाया जाएगा।
तो आप इनमे से किसी ऑप्शन को सेलेक्ट करके अपने हिसाब से सेटिंग कर सकते हैं। और इसका Use कर सकते हैं।

प्रोजेक्टर क्या होता है Projector Kya Hai in Hindi प्रोजेक्टर क्या होता है Projector Kya Hai in Hindi Reviewed by ADMIN on 23:49 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.