Science Equipment and Their Uses

वैज्ञानिक उपकरण सूची
  • हाइड्रोफोन : इससे पानी में ध्वनि को अंकित किया जाता है।
  • फेदोमीटर : इससे समुद्र की गहराई नापी जाती है।
  • ग्रामोफोन : इस उपकरण के द्वारा रिकार्ड पर अंकित ध्वनि तरंगों को पुन: उत्पादित किया जा सकता है। और सुना जा सकता है।
  • ग्रेवोमीटर : इससे पानी की सतह पर तेल की उपस्थिति ज्ञात की जा सकती है।
  • हाइग्रोमीटर : इससे वायुमण्डल में व्याप्त आद्रता नापी जाती है।
  • लैक्टोमीटर : इससे दूध की शुध्दता ज्ञात की जाती है।
  • माइक्रोस्कोप : बुहत की सूक्ष्म वस्तुओं को इस उपकरण द्वारा आवर्धन करके देखा जाता है।
  • माइक्रोटोम : इसे किसी वस्तु को बहुत पतले-पतले भागों में काटने के काम में लाया जाता है।
  • हाइग्रोस्कोप : वायुमण्डल की आर्द्रता के परिर्वतन को नापने वाला उपकरण।
  • हाइप्सोमीटर : पर्वतारोहियों द्वारा समुद्र तल से ऊँचाई नापने में प्रयुक्त उपकरण।
  • ऑल्टीमीटन : इससे विमानों की ऊँचाई नापी जाती है।
  • एमीटर : इससे एम्पीयर्स में विद्युत धारा को नापा जाता है।
  • एनिमोमीटर : इससे वायु की शाक्ति तथा गति को नापा जाता है।
  • ओडियोफोन : इसे लोग सुनने में सहायता के लिये कान में लगाते है।
  • बेरोग्राफ : यह वायुमण्डल के दाब में होने वाले परिवर्तन को नापता है, और स्वत: ही इसका ग्राफ बना देता है।
  • ओडोमीटर : इससे मोटर गाड़ी की गति को ज्ञात किया जाता है।
  • 15. पैराशूट : यह छाते के समान उकरण है जिससे युध्द या आपात स्थिति के समय वायुयान से नीचे कूदा जा सकता है।
  • पेरिस्कोप : इसके द्वारा जब पनडुब्बी पानी के अंदर होती है तो पानी की सतह पर अवलोकन कर सकती है और इसमें बैठे लोग बिना किसी के जाने हुए बिना किसी बाधा के बाहरी हलचले ज्ञात कर सकते है।
  • फोनोग्राफ : इससे ध्वनि की तंरगो को पुन: ध्वनि में परिवर्तित किया जाता है।
  • फोटोकैमरा : इससे फोटोग्राफ लेकर कैमीकल्स की सहायता से इसे डेवलप किया जाता है ताकि सही चित्र बनकर निकले।
  • पोटेन्शियोमीटर : इससे किसी सेल के विद्युत वाहक बल तथा तार के दो सिरों के विभवान्तर की नाप होती है।
  • रेडियेटर : यह कारों तथा गाड़ियों के इंजिनों को ठण्डा करने वाला उपकरण है।
  • रेन गेज : इससे किसी विशेष स्थान पर हुई वर्षा की मात्रा नापी जाती है।
  • सिस्मोग्राफ : इस यंत्र से पृथ्वी सतह पर आने वाले भूकम्प के झटकों का स्वत: ही ग्राफ चित्रित होता है।
  • कैलीपर्स : इसे गोल वस्तुओ का भीतरी तथा बाहरी व्यास नापा जाता है, इससे मोटाई भी नापी जा सकती है।
  • कारडियोग्राम : इससे हृदय रोग से ग्रसित व्यक्ति की हृदय गति की जांच की जाती है।
  • सिनेमोटोग्राफ : इस यंत्र के द्वारा छोटी छोटी फिल्म के चित्रों को बड़ा करके दिखाया जाता है। इसमें अनेक लैंसो को इस प्रकर लगाया जाता है कि चित्र गतिमय दिखाई देते है।
  • कम्पास नीडिल : इसके द्वारा किसी स्थान की दिशा ज्ञात की जाती है।
  • यूडिओमीटर : इसके द्वारा गैसों में रासायनिक क्रिया के कारण होने वाले आयतन के परिवर्तनों को नापा जाता है।
  • स्पेक्ट्रोमीटर : इस यंत्र के माध्यम से स्पेक्ट्रम की उत्पति की जाती है जिससे कि विभिन्न किरणों के तरंग दैधर्य को नापा जा सके।
  • स्फिग्मोमेनोमीटर : इससे धमनियों में बहने वाले सक्त का दाब नापा जाता है।
  • स्पीडोमीटर : इससे किसी मोटर गाड़ी की चालन गति ज्ञात की जाती है।
  • स्फिग्मोफोन : इससे नाड़ी धड़कन को तेज ध्वनि में सुना जा सकता है।
  • स्टेथिस्कोप : इससे हृदय तथा फेफड़ो की आवाज को सुना जा सकता है। और रोग के लक्षण ज्ञात किये जाते है।
  • स्टोप वाच : इससे किसी कार्य या क्रिया की समय अवधि सही रूप से नापी जाती है।
  • टैकोमीटर : इससे वायुयानों मथा मोटर बोटों की गति नापी जाती है।
  • टेलीफोन : इसके द्वारा दो व्यक्ति जो एक दूसरे से दूर होते है, बातचीत कर सकते है।
  • टेलिस्कोप : इसकी सहायता से दूर स्थित वस्तुये स्पष्ट देखी जा सकती है।
  • टेलस्टार : 10 जुलाई 1962 को कैप कैनेड़ी से छौड़ा गया यह अंतरिक्ष का संचार उपग्रह है। इसके द्वारा एक देश के निवासी दूसरे देश के निवासियों से टेलीफोन द्वारा बातचीत कर सकते है। इसके अतिरिक्त टेलिविजन संचार भी विभिन्न देशों में इसके द्वारा संभव हो सहा है।
  • थर्मोस्टेट : इस यंत्र के द्वारा उष्मा आपूर्ति पर नियंन्त्रण करके किसी वस्तु या पदार्थ का तापमान किसी बिन्दु पर नियत कर दिया जाता है।
  • लाइफ बोट तथा लाइफ वेस्ट : जब कोई जहाज डूबता है तो इनको उपयोग में लाकर यात्रियों को बचाया जाता है।
  • ट्रान्सफॉमर्र : इसके द्वारा ए.सी. विद्युत की वोल्टेज को कम-अधिक किया जा सकता है।
  • संचार उपग्रह : यह विभिन्न क्षेत्रों और देशों के बीच टेलीफोन तथा टेलिविजन कार्यक्रमों को प्रसारित करने वाले उपग्रह है, जो रिले स्टेशन के समान है।
  • एस.एल.वी. : इसका पूर्णरूप है, सैटेलाइट लॉचिगं व्हीकल। इसके द्वारा अंतरिक्ष में उपग्रह प्रक्षेपित किये जाते है।
  • एक्टिओमीटर : सूर्य किरणों की तीव्रता नापने का यंत्र।
  • एकूमुलेटर : विद्युत ऊर्जा एकत्र करने का यंत्र।
  • एक्सिलरोमीटर : हवाई जहाज के चाल की वृध्दि नापने का यंत्र।
  • एण्टी एअरक्राफ्ट : गोला मारकर हवाई जहाजों को गिराने वाला यंत्र।
  • कलरीमीटर : दो रंगो की गहनता की तुलना करने वाला यंत्र।
  • कम्यूटेटर : इससे किसी परिपथ में विद्युत धारा बदलती है।
  • काइनेस्कोप : इस पर टेलीविजन से प्राप्त चित्र प्रकट होते है।
  • कायमोग्राफ : रूधिर के दाब का ग्राफ चित्रण करने वाला यंत्र।
  • इलेक्ट्रोस्कोप : विद्युत आवेश की उपस्थिति जानने वाला यंत्र।
  • फोनोमीटर : प्रकाश की चमक शक्ति ज्ञान करने का यंत्र।
  • गाइरोस्कोप : घूमती हुई वस्तुओं की गति नापने का यंत्र।

No comments:

Powered by Blogger.