समुद्र का पानी खारा क्यों होता है? why ocean water is salty in Hindi language


समुद्री पानी खारा क्यों होता है?
जब धरती नई-नई बनी थी, तब इसके वातावरण में कई प्रकार की गैसें थीं, जो ज्वालामुखियों की आग और धुएं से निकली थीं | ये गैसें धीरे-धीरे समुद्र के पानी में घुलीं | दूसरे जमीन पर बारिश का पानी जब नदियों के रास्ते समुद्र तक आता है, जो मिट्टी के साथ कई तरह के लवणों को भी ले आता है | यह भी पानी में घुलता है | समुद्र के पानी में नमक लगातार बढ़ रहा है, पर यह मात्रा इतनी कम है कि उसे मापना सम्भव नहीं |

नदियों और झरनों के पानी में भी प्रकृति के अन्य पदार्थों से आए लवण घुलते हैं | उनकी मात्रा कम होती है इसलिए वह पानी हमें मीठा लगता है | समुद्र में ख़ास दो लवण हैं सोडियम और क्लोराइड | दुनिया के अलग-अलग समुद्रों के पानी में अलग-अलग मात्रा में खारा होता है | सामान्यतः 1000 ग्राम या एक लिटर समुद्री पानी में 35 ग्राम (सात चम्मच) नमक होता है | इसे पार्ट्स पर थाउजैंड (पीपीटी) कहते हैं | सामान्यतः समुद्रों का पानी 34 से 36 पीपीटी नमकीन होता है, पर यूरोप के पास के भूमध्य सागर का पानी 38 पीपीटी है |
समुद्र का पानी खारा क्यों होता है? why ocean water is salty in Hindi language समुद्र का पानी खारा क्यों होता है? why ocean water is salty in Hindi language Reviewed by ADMIN on 00:29 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.