लोन कितने प्रकार के होते है? Types of Bank Loans in India in Hindi


Types of Bank Loans

किसी वस्तु को खरीदने के लिए, किसी जरुरी काम, बिज़नस को बढ़ाने के लिए या किसी व्यक्तिगत काम के लिए बैंक या किसी फाइनेंसियल इंस्टिट्यूशन से ली जाने वाली आर्थिक सहायता को ही लोन या ऋण कहा जाता है जिसके एवज में ग्राहक बैंक या फाइनेंस कंपनी को इ.एम.आई. के रूप में पूर्ण लोन राशि एवं ब्याज लौटता है |

लोन कितने प्रकार के होते है? Types of Bank Loans in Hindi

लोन अलग - अलग जरूरतों के आधार पर कई प्रकार का होता है | लोन के कुछ प्रकार निम्न हैं -

होम लोन
घर बनाने के लिए लिया जाने वाला लोन, होम लोन कहलाता है, जोकि काफी रियायती दरों पर उपलब्ध होता है, क्योंकि गवर्नमेंट द्वारा सब्सिडी मिलने के कारण बैंक और फाइनेंस कंपनियां कम रेट ऑफ़ इंटरेस्ट पर उपलब्ध कराती हैं | यह सुरक्षित लोन माना जाता है क्योंकि इस लोन के लिए ग्राहक को अपने घर के पेपर (जमीन की रजिस्टरी) बैंक में गिरवी रखने होते हैं |

होम लोन
ग्राहक द्वारा घर बनाने के लिए खरीदी जाने वाली जगह या प्लॉट को खरीदने के लिए लिया जाने वाला लोन, प्लॉट लोन कहलाता है | कुछ प्राइवेट फाइनेंस कंपनी द्वारा यह लोन उपलब्ध कराया जाता है | इस लोन को जमीन की रजिस्ट्री करने से पहले अप्लाई करा जाता हैं व रजिस्ट्री के बाद जमीन के पेपर बैंक अपने पास रख लेता है |

लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी
किसी घर (रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी) या शॉप (कमर्शियल प्रॉपर्टी) के रजिस्ट्री के पेपरों को बैंक या फाइनेंस कंपनी में गिरवी रखकर पर्सनल काम या बिज़नस बढ़ने के लिए लिया जाने वाला लोन ही लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी कहा जाता है |

कमर्शियल प्रॉपर्टी लोन
शॉप, गोदाम या किसी अन्य तरह की कमर्शियल प्रॉपर्टी खरीदने के लिए लिया जाने वाला लोन कमर्शियल लोन की केटेगरी में आता है |

पर्सनल लोन
ग्राहक द्वारा अपने किसी पर्सनल काम जैसे की कुछ खरीदने, शादी विवाह के लिए, कहीं घूमने जाने के लिए, आदि कार्यों के लिए लिया जाने वाला लोन पर्सनल लोन कहलाता है | यह लोन असुरक्षित लोन होता है क्योंकि इस लोन में किसी तरह की प्रॉपर्टी या कोई चीज गिरवी नहीं राखी जाती है |

कार या बाइक लोन
कार एवं बाइक खरीदने के लिए लिया जाने वाला लोन ऑटो लोन कहलाता है |

एजुकेशन लोन
हायर एजुकेशन के लिए लिया जाने वाला लोन एजुकेशन लोन कहलाता है | जिसमें लोन की धन राशि बैंक द्वारा कॉलेज को दी जाती है |

गोल्ड लोन
सोना गिरवी रखकर अपने व्यक्तिगत काम के लिए लिया गया लोन गोल्ड लोन कहा जाता है | इस लोन में सोने के मौजूदा भाव का 50 से 80 प्रतिशत धन ग्राहक को दिया जाता है |

इनवेंट्री लोन
यह लोन बिज़नस लोन की श्रेणी में आता है | यह लोन शोरूम या शॉप आदि के लिए सामान खरीदने के लिए लिया जाता है |

बिज़नस लोन
बिज़नस मेन द्वारा अपना मौजूदा बिज़नस बढ़ाने के लिए लिया जाने वाला पर्सनल लोन ही बिज़नस लोन कहलाता है | यह लोन किसी भी तरह के नए बिज़नस को शुरू करने के लिए नहीं दिया जाता है | यह लोन सिर्फ अछि अवस्था में चल रहे बिज़नस को ही बढाने के लिए दिया है |

लोन अगेंस्ट फिक्स्ड डिपॉजिट
बैंक में किये गए ऍफ़ डी (Fixed Deposit) को गिरवी रखकर उसकी 50 से 80 प्रतिशत राशि का लोन ही लोन अगेंस्ट फिक्स्ड डिपाजिट कहलाता है |

प्रॉफेशनल लोन
सही डिग्री धारक प्रॉफेशनलस जैसे की डॉक्टर और चार्टेड एकाउंटेंट्स को अपना काम बढ़ाने के लिए लिया जाने वाला लोन ही प्रॉफेशनल लोन कहलाता है |

लोन फॉर इलेक्ट्रॉनिक गुड्स
इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स खरीदने के लिए मिलने वाला लोन, लोन फॉर इलेक्ट्रॉनिक गुड्स कहलाता है |

कृषि लोन
किसान द्वारा अपने खेत को गिरवी रखकर या भारत सरकार द्वारा दिए गए किसान क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके अपनी अगली फसल (खेती) के लिए बीज और खाद वगेहरा की व्यवस्था करने के लिए लिया गया लोन, कृषि लोन की श्रेणी में आता है |
लोन कितने प्रकार के होते है? Types of Bank Loans in India in Hindi लोन कितने प्रकार के होते है? Types of Bank Loans in India in Hindi Reviewed by ADMIN on 23:19 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.