पर्यायवाची शब्द, समानार्थी शब्द (Paryayvachi Shabd in Hindi)

पर्यायवाची शब्द, समानार्थी शब्द (Paryayvachi Shabd in Hindi)

पर्यायवाची शब्द (Synonyms Word in Hindi) जिन शब्दों के अर्थ में समानता होती है, उन्हें पर्यायवाची शब्द कहते हैं। नीचे कुछ महत्वपूर्ण पर्यायवाची शब्द दिए जा रहे हैं:-

अग्नि - आग, अनल, पावक, दहन, वह्नि, कृशानु।
अपमान - अनादर, अवज्ञा, अवहेलना, अवमान, तिरस्कार।
अलंकार - आभूषण, भूषण, विभूषण, गहना, जेवर।
अहंकार- दंभ, गर्व, अभिमान, दर्प, मद, घमंड, मान।
अमृत- सुधा, अमिय, पीयूष, सोम, मधु, अमी।
असुर- दैत्य, दानव, राक्षस, निशाचर, रजनीचर, दनुज, रात्रिचर, तमचर।
अतिथि- मेहमान, अभ्यागत, आगन्तुक, पाहूना।
अनुपम- अपूर्व, अतुल, अनोखा, अदभुत, अनन्य।
अर्थ- धन्, द्रव्य, मुद्रा, दौलत, वित्त, पैसा।
अश्व- हय, तुरंग, घोड़ा, घोटक, हरि, बाजि, सैन्धव।
अंधकार- तम, तिमिर, तमिस्र, अँधेरा, तमस, अंधियारा।

अंधकार तम, तिमिर, अँधेरा, अँधियारा, ध्वांत, तमिस्र, तमस।
अंधा नेत्रहीन, चक्षुहीन, विवेकशून्य, दृष्टिहीन।
अतिथि मेहमान, पाहुना, आगंतुक, अभ्यागत, बटाऊ।
अग्नि आग, अनल, पावक, वह्नि, ज्वाला, कृशानु, वैश्वानर, धनंजय, दहन, सर्वभक्षी, जातवेद, हुताशन, हव्यवान, ज्वलन, शिखा, वैसन्दर, रोहिताश्व, कृपीटयोनि, तनूनपात, शोचिष्केनश, उषर्बुध, आश्रयाश, वृहदभानु, वायुसख, चित्रभानु, विभावस्, शुचि, अप्पिन्त।
अकाल सूखा, दुर्भिक्ष, भुखमरी, कमी, काळ (राजस्थानी)।
अध्यापक गुरु, आचार्य, शिक्षक, प्रवक्ता, उपाध्याय।
अमृत सुधा, पीयूष, अमिय, सोम, सुरभोग, जीवनोदक, अमी, मधु, दिव्य पदार्थ।
अनुपम अनूप, अपूर्व, अतुल, अनोखा, अद्भुत, अनन्य, अद्वितीय, बेजोड़, बेमिसाल, अनूठा, निराला, अभूतपूर्व, विलक्षण।
असुर दैत्य, दानव, राक्षस, निशाचर, रजनीचर, दनुज, रात्रिचर, जातुधान, तमीचर, मायावी, सुरारि, निश्चिर, मनुजाद।
अचल अटल, अडिग, अविचल, स्थिर, दृढ़।
अनाथ यतीम, नाथहीन, बेसहारा, दीन, निराश्रित।
अपमान अनादर, बेइज्जती, अवमानना, निरादर, तिरस्कार।
अभिजात संभ्रान्त, कुलीन, श्रेष्ठ, योग्य।
अभिप्राय आशय, तात्पर्य, मतलब, अर्थ, मंशा, व्याख्या, भाष्य, टीकापिप्पणी।
अरण्य जंगल, अटवी, विपिन, कानन, वन, कान्तार, दावा, गहन, बीहड़, विटप।
अजेय अदम्य, अपराजेय, अपराजित, अजित।
अन्य पर, भिन्न, पृथक, और, दूसरा, अलग।
अनुचर भृत्य, किँकर, दास, परिचारक, सेवक।
अनार शुकप्रिय, रामबीज, दाड़िम।
अर्जुन पार्थ, धनंजय, सव्यसाची, गाण्डीवधारी।
अक्षर हरफ, ब्रह्म, अ आदि वर्ण, अविनाशी।
अनाज अन्न, धान्य, खाद्यान्न, शस्य, गल्ला।
अधिकार हक, स्वामित्व, स्वत्व, कब्जा, आधिपत्य।
अनुमान अंदाज, तखमीना, अटकल, कयास।
अनुमति इजाजत, आज्ञा, अनुज्ञा, मंजूरी, स्वीकृति।
अप्सरा देवांगना, सुरांगना, देवकन्या, सुखनिता, अरुणप्रिया।
अवनति अपकर्ष, ह्रास, गिराव, उतार।
अशुद्ध दूषित, अपवित्र, मलिन, गंदा, गलत।
अस्त ओझल, गायब, छिपना, तिरोहित।

आग- अग्नि, अनल, हुतासन, पावक, दहन, ज्वलन, धूमकेतु, कृशानु, वहनि, शिखी, वह्नि।
आँख- लोचन, नयन, नेत्र, चक्षु, दृग, विलोचन, दृष्टि, अक्षि।
आकाश- नभ, गगन, अम्बर, व्योम, अनन्त, आसमान, अंतरिक्ष, शून्य, अर्श।
आश्रम- कुटी, विहार, मठ, संघ, अखाडा।
आंसू- नेत्रजल, नयनजल, चक्षुजल, अश्रु।
आत्मा- जीव, देव, चैतन्य, चेतनतत्तव, अंतःकरण।
आँधी तूफान, चक्रवात, झंझावत, बवंडर।
आँगन अंगना, प्रांगण, बाखर, बगर, अजिर, बाड़ा।
आकाश नभ, अंबर, व्योम, गगन, अनंत, शून्य, तारापथ, अन्तरिक्ष, दुष्कर, आसमान, महानील, द्यौ, शून्यरव, दिव, अभ्र, सुखर्त्यन्, क्यित, विहायस, नाक, द्युस्।
आम आम्र, रसाल, सहकार, अमृतफल, अम्बु, सौरभ, मादक।
आनन्द आमोद, प्रमोद, प्रसन्नता, हर्ष, उल्लास, आह्लाद, मोद, मुद, खुशी, मजा, सुख, चैन, विहार।
आन प्रण, प्रतिज्ञा, हठ, शपथ, घोषणा, मर्यादा।
आभूषण जेवर, गहना, भूषण, आभरण, मंडन, अलंकार।
आत्मा चैतन्य, विभु, जीव, सर्वज्ञ, सर्वव्याप्त, देव, चेतनतत्त्व, अन्तःकरण।
आज्ञा आदेश, निदेश, हुक्म।
आयु उम्र, वय, अवस्था, जीवनकाल।
आदर्श मानक, प्रतिमान, नमूना, प्रतिरूप।
आदि प्रथम, आरम्भिक, पहला, अथ।
आपत्ति विपत्ति, आपदा, संकट, मुसीबत।
आश्रय अवलंब, सहारा, आधार, प्रश्रय, आसरा।
आश्रम कुटी, विहार, मठ, संघ, अखाड़ा।
आचरण व्यवहार, चालचलन, बरताव।
आयुष्मान चिरायु, दीर्घायु, चिरंजीव।

इच्छा- अभिलाषा, अभिप्राय, चाह, कामना, लालसा, मनोरथ, आकांक्षा, अभीष्ट।
इन्द्र- सुरेश, सुरेन्द्र, देवेन्द्र, सुरपति, शक्र, पुरंदर, देवराज, महेन्द्र, मधवा, शचीपति, मेघवाहन, पुरुहूत, यासव।इन्द्राणि - इन्द्रवधू, मधवानी, शची, शतावरी, पोलोमी।

ईश्वर- परमात्मा, प्रभु, ईश, जगदीश, भगवान, परमेश्वर, जगदीश्वर, विधाता।
ईर्ष्या जलन, डाह, द्वेष, खार, रश्क, कुढ़न।
ईनाम उपहार, पुरस्कार, पारितोषिक, बख्शीश।
ईमानदारी सदाशयता, निष्कपटता, दयानतदारी।

उक्ति - कथन, वचन, सूक्ति।उग्र - प्रचण्ड, उत्कट, तेज, महादेव, तीव्र, विकट।
उचित - ठीक, मुनासिब, वाज़िब, समुचित, युक्तिसंगत, न्यायसंगत, तर्कसंगत, योग्य।
उच्छृंखल - उद्दंड, अक्खड़, आवारा, अंडबंड, निरकुंश, मनमर्जी, स्वेच्छाचारी।
उजड्ड - अशिष्ट, असभ्य, गँवार, जंगली, देहाती, उद्दंड, निरकुंश।
उजला - उज्ज्वल, श्वेत, सफ़ेद, धवल।उजाड - जंगल, बियावान, वन।
उजाला - प्रकाश, रोशनी, चाँदनी।
उत्कष - समृद्धि, उन्नति, प्रगति, प्रशंसा, बढ़ती, उठान।
उत्कृष्ट - उत्तम, उन्नत, श्रेष्ठ, अच्छा, बढ़िया, उम्दा।
उत्कोच - घूस, रिश्वत।
उत्पति - उद्गम, पैदाइश, जन्म, उद्भव, सृष्टि, आविर्भाव, उदय।
उद्धार - मुक्ति, छुटकारा, निस्तार, रिहाई।
उपाय - युक्ति, साधन, तरकीब, तदबीर, यत्न, प्रयत्न।
उपहास मजाक, खिल्ली, परिहास, मखौल, हास, प्रहसन्न, हँसी, लास।
उपवन बाग, बगीचा, उद्यान, वाटिका, फुलवारी, गुलशन।
उत्तम श्रेष्ठ, उत्कृष्ट, प्रवर, प्रकृष्ट, बेहतरीन, अच्छा।
उत्थान उत्कर्ष, आरोह, चढ़ाव, उत्क्रमण, उन्नति, प्रगति, उन्नयन।
उदाहरण दृष्टांत, मिसाल, नजीर, नमूना।
उपकार भलाई, नेकी, हितसाधन, कल्याण, मदद, परोपकार।
उत्सव समारोह, पर्व, त्यौहार, जलसा, जश्न।
उदय प्रकट होना, आरोहण, चढ़ना।
उदास दुखी, रंजीदा, विरक्त, अनमना, अन्यमनस्क।
उद्देश्य लक्ष्य, ध्येय, हेतु, प्रयोजन।
उद्यम साहस, उद्योग, परिश्रम, व्यवसाय, धंधा, कार्य, व्यापार, कर्म, क्रिया।
उपमा तुलना, मिलान, सादृश्य, समानता।
उदर पेट, कुक्ष, जठर।

ऊधम - उपद्रव, उत्पात, धूम, हुल्लड़, हुड़दंग, धमाचौकड़ी।
ऊँट उष्ट्र, क्रमलेक, मरुयान, लम्बोष्ठ, महाग्रीव

ऐक्य - एकत्व, एका, एकता, मेल।
ऐश्वर्य - समृद्धि, विभूति।
एकान्त सूना, निर्जन, जनशून्य

ओज - तेज, शक्ति, बल, वीर्य
ओंठ- ओष्ठ, अधर, होठ।
ओझल गायब, लुप्त, अदृश्य, अंतर्धान, तिरोभूत।
ओस तुषार, हिमकण, शबनम, हिमबिँदु।
ओष्ठ अधर, रदच्छद, लब, किनारा, होठ, ओँठ।

औचक - अचानक, यकायक, सहसा।
औरत - स्त्री, जोरू, घरनी, घरवाली।

ऋषि - मुनि, साघु, यति, संन्यासी, तत्वज्ञ, तपस्वी।

कच - बाल, केश, कुन्तल, चिकुर, अलक, रोम, शिरोरूह।
कमल- नलिन, अरविन्द, उत्पल, राजीव, पद्म, पंकज, नीरज, सरोज, जलज, जलजात, शतदल, पुण्डरीक, इन्दीवर।
कबूतर - कपोत, रक्तलोचन, पारावत, कलरव, हारिल।
कामदेव - मदन, मनोज, अनंग, काम, रतिपति, पुष्पधन्वा, मन्मथ।
कण्ठ - ग्रीवा, गर्दन, गला, शिरोधरा।
कृपा- प्रसाद, करुणा, दया, अनुग्रह।
किताब- पोथी, ग्रन्थ, पुस्तक।किनारा - तीर, कूल, कगार, तट।
कपड़ा- चीर, वसन, पट, अंशु, कर, मयुख, वस्त्र, अम्बर, परिधान।
किरण- ज्योति, प्रभा, रश्मि, दीप्ति, मरीचि।
किसान- कृषक, भूमिपुत्र, हलधर, खेतिहर, अन्नदाता।
कृष्ण- राधापति, घनश्याम, वासुदेव, माधव, मोहन, केशव, गोविन्द, गिरधारी।
कान- कर्ण, श्रुति, श्रुतिपटल, श्रवण, श्रोत, श्रुतिपुट।
कोयल- कोकिला, पिक, काकपाली, बसंतदूत, सारिका, कुहुकिनी, वनप्रिया।
क्रोध- रोष, कोप, अमर्ष, कोह, प्रतिघात।
कीर्ति - यश, प्रसिद्धि।
कमल नलिन, अरविन्द, उत्पल, राजीव, पद्म, पंकज, नीरज, सरोज, जलज, जलजात, वारिज, शतदल, अम्बुज, पुण्डरिक, अब्ज, सरसिज, इंदीवर, ताम्ररस, कंज, वनज, अम्भोज, सहस्रदल, पुष्कर, कुवलय, पङ्करुह, सरसीरुह, कोकनद।
कल्पवृक्ष देवदारु, सुरतरु, मन्दार, पारिजात, कल्पद्रुम, देववृक्ष, सुरद्रुम, कल्पतरु।
कबूतर कपोत, हारीत, परेवा, पारावत, रक्तलोचन।
कर्ण अंगराज, सूतपुत्र, सूर्यपुत्र, राधेय, कौन्तेय।
करुणा दया, प्रसाद, अनुग्रह, अनुकंपा, कृपा, मेहरबानी।
कर्ज ऋण, उधार, देनदारी, देयता।
कलंक लांछन, दोष, दाग, तोहमत, धब्बा, कालिख पोतना।
कमर कटि, श्रोणि, लंक, मध्यांग।
कस्तूरी मृगनाभि, मृगमद, मदलता।
कवि कल्पक, सृष्टा, काव्यकार, रचनाकार।
कलश घट, घड़ा, गागर, गगरी, मटका, घटिका, कुंभ, कुट।
कपड़ा वस्त्र, चीर, वसन, अंबर, पट, कर्पट, दुकूल, परिधा
कष्ट दुःख, दर्द, पीड़ा, मुसीबत, व्यथा, कठिनाई, व्याधि, कलेश, विषाद, संताप, वेदना, यातना, यंत्रणा, पीर, भीर, संकट, शोक, श्वेद, क्षोम, उत्पीड़न।
कामदेव काम, अनंग, मदन, मनोज, मन्मथ, कन्दर्प, स्मर, रतिपति, पुष्पधन्वी, मयन, मीनकेतु, पंचशर, मकरध्वज, मनसिज, पुष्पशायक, पंचबाण, मनोभव, कुसुमायुध, मार, सारंग, दर्पक, शम्बरारि।
कान कर्ण, श्रवण, श्रवणेन्द्रिय, श्रोत, श्रुतिपुट, श्रुतिपटल।
कान्ति चमक, आभा, प्रभा, सुषमा, द्युति।
किरण रश्मि, कर, मरीचि, मयूख, अंशु, दीधिति, वसु, ज्योति, दीप्ति।
किताब पोथी, ग्रन्थ, पुस्तक, गुटका।
किनारा तट, तीर, कूल, पुलिन, पर्यंत, बेलातट।
कुबेर यक्षराज, धनाधिप, धनद, धनपति।
कुत्ता श्वान, शुनक, गंडक, कूकर, श्वजन।
क्रूर निष्ठुर, निर्मोही, बर्बर, नृशंस, निर्दयी।
कृष्ण श्याम, कन्हैया, वासुदेव, मोहन, राधास्वामी, नंदलाल, मुरलीधर, बनवारी, माधव, मधुसूदन, गिरिधर, गोपाल, गोपीवल्लभ, विश्वंभर, नटवर, गिरधारी, चतुर्भुज, नारायण, जनार्दन, पुरुषोत्तम, अच्युत, गरुड़ध्वज, कैटमारि, घनश्याम, चक्रपाणि, पद्मनाभ, राधापति, मुकुन्द, गोविन्द, केशव।
कृतज्ञ आभारी, उपकृत, अनुगृहीत, कृतार्थ, ऋणी।
कृषक किसान, हलवाहा, भूमिसुत, खेतिहर, कृषिजीवी, हलधर, अन्नदाता, भूमिपुत्र।
क्रोध गुस्सा, रीस, अमर्ष, रोष, शेष, कोप, कोह, प्रतिघात।
केला कदली, भानुफल, रंभा, गजवसा, कुंजरासरा, मोचा।
केश बाल, शिरोरुह, कच, कुंतल, पश्म, चिकुर, अलक।
कोयल पिक, कलकंठ, कोकिला, श्यामा, काकपाली, बसंतदूत, सारिका, कुहुकिनी, वनप्रिया, सारंग, कलापी, कोकिल, परभृत।
कौआ काक, वायस, पिशुन, करटक, काग।
क्षमा माफी, सहनशीलता, सहिष्णुता।

खग - पक्षी, द्विज, विहग, नभचर, अण्डज, शकुनि, पखेरू।
खंभा स्तूप, स्तम्भ, खंभ।
खल - दुर्जन, दुष्ट, घूर्त, कुटिल।
खून - रक्त, लहू, शोणित, रुधिर।
खिड़की गवाक्ष, झरोखा, बारी, वातायन, दरीचा।

गज- हाथी, हस्ती, मतंग, कूम्भा, मदकल ।
गाय- गौ, धेनु, सुरभि, भद्रा, रोहिणी।
गृह- घर, सदन, गेह, भवन, धाम, निकेतन, निवास, आलय, आवास, निलय, मंदिर।
गर्मी- ताप, ग्रीष्म, ऊष्मा, गरमी, निदाघ।गुरु - शिक्षक, आचार्य, उपाध्याय।
गंगा देवनदी, मंदाकिनी, भगीरथी, विष्णुपदी, देवपगा, ध्रुवनंदा, सुरसरिता, देवनदी, जाह्नवी, त्रिपथगा, देवगंगा, सुरापगा, विपथगा, स्वर्गापगा, आपगा, सुरधनी, विवुधनदी, विवुधा, पुण्यतीया, नदीश्वरी, भीष्मसू।
गणेश विनायक, गजानन, गौरीनंदन, गणपति, गणनायक, शंकरसुवन, लम्बोदर, महाकाय, एकदन्त, गजवदन, मूषकवाहन, वक्रतुण्ड, विघ्ननाशक, धूम्रकेतु, गणाध्यक्ष, गणराज, भालचन्द्र, पार्वतीनंदन, सिद्धिसदन।
गरुड़ वैनतेय, खगकेतु, हरिवाहन, खगेश, पक्षिराज, उरगरिपु।
गधा गदहा, खर, गर्दभ, रासभ, वेशर, चक्रीवान, वैशाखनन्दन।
गला कण्ठ, ग्रीवा, शिरोधरा।
गाय गौ, गऊ, गैया, धेनु, सुरभी, गौरी, पयस्विनी, दौग्धी, भ्रदा, ऋषिभि, सुरभिवच्छा, माहेयी।
ग्रीष्म घाम, निदाघ, ताप, ऊष्मा, गर्मी, उष्ण।
गीदड़ शृगाल, सियार, जंबूक।
गुलाब शतपत्र, पाटल, वृत्तपुष्प, स्थलकमल।
गुरु शिक्षक, अध्यापक, आचार्य, अवबोधक।

घट - घड़ा, कलश, कुम्भ, निप।
घर - आलय, आवास, गेह, गृह, निकेतन, निलय, निवास, भवन, वास, वास-स्थान, शाला, सदन।
घृत - घी, अमृत, नवनीत।
घास - तृण, दूर्वा, दूब, कुश, शाद।
घोड़ा घोटक, अश्व, तुरंग, हय, वाजि, सैन्धव, तुरंगम, बाजी, वाह, तरंग, रविपुत्र।
घोड़ी अश्विनी, वामी, प्रसू, प्रसूका।

चरण- पद, पग, पाँव, पैर, पाद।
चतुर - विज्ञ, निपुण, नागर, पटु, कुशल, दक्ष, प्रवीण, योग्य।
चंद्रमा- चाँद, हिमांशु, इंदु, विधु, तारापति, चन्द्र, शशि, हिमकर, राकेश, रजनीश, निशानाथ, सोम, मयंक, सारंग, सुधाकर, कलानिधि।
चाँदनी - चन्द्रिका, कौमुदी, ज्योत्स्ना, चन्द्रमरीचि, उजियारी, चन्द्रप्रभा, जुन्हाई।
चाँदी - रजत, सौध, रूपा, रूपक, रौप्य, चन्द्रहास।
चोटी - मूर्धा, शीश, सानु, शृंग।
चोर धनक, रजनीचर, तस्कर, मौषक, कुंभिल।
चंदन मलय, मंगल्य, गंधराज।

छतरी - छत्र, छाता, छत्ता।छली - छलिया, कपटी, धोखेबाज।
छवि - शोभा, सौंदर्य, कान्ति, प्रभा।
छानबीन - जाँच, पूछताछ, खोज, अन्वेषण, शोध, गवेषण।
छैला - सजीला, बाँका, शौकीन।
छोर - नोक, कोर, किनारा, सिरा।
छल कपट, छद्म, धोखा, व्याज, वंचना, प्रवंचना, ठगी।
छिपकली गोधिका, विषतूलिका, माणिक्य।

जल- अमृत, सलिल, वारि, नीर, तोय, अम्बु, उदक, पानी, जीवन, पय, पेय।
जगत - संसार, विश्व, जग, जगती, भव, दुनिया, लोक, भुवन।
जीभ - रसना, रसज्ञा, जिह्वा, रसिका, वाणी, वाचा, जबान।
जंगल- विपिन, कानन, वन, अरण्य, गहन, कांतार, बीहड़, विटप।
जेवर - गहना, अलंकार, भूषण, आभरण, मंडल।
ज्योति - आभा, छवि, द्युति, दीप्ति, प्रभा, भा, रुचि, रोचि।


जन्म उद्भव, उत्पति, आविर्भाव, पैदाइश।
जहर विष, गरल, हलाहल, कालकूट, गर।
जवान युवा, युवक, तरुण, किशोर।
जीव प्राणी, प्राण, चैतन्य, जान।

झूठ- असत्य, मिथ्या, मृषा, अनृत
झरना प्रपात, निर्झर, उत्स, स्रोता।
झोँपड़ी कुंज, कुटिया, पर्णकुटी।

तरुवर - वृक्ष, पेड़, द्रुम, तरु, विटप, रूंख, पादप।
तलवार - असि, कृपाण, करवाल, खड्ग, चन्द्रहास।
तालाब- सरोवर, जलाशय, सर, पुष्कर, पोखरा, जलवान, सरसी, तड़ाग।
तीर - शर, बाण, विशिख, शिलीमुख, अनी, सायक।
तरकस तूणीर, निषंग।
त्वचा चर्म, चमड़ी, खाल, चाम।
तारा उडु, नखत, नक्षत्र, तारक, तारिका, ऋक्ष, सितारा।
तोता शुक, कीर, सुआ, वक्रतुण्ड, दाड़िमप्रिय।

थोड़ा कम, जरा, स्वल्प, तनिक, न्यून, अल्प, किँचित, मामूली।

दास- सेवक, नौकर, चाकर, परिचारक, अनुचर, भृत्य, किंकर।
दधि - दही, गोरस, मट्ठा, तक्र।
दरिद्र- निर्धन, ग़रीब, रंक, कंगाल, दीन।
दिन- दिवस, याम, दिवा, वार, प्रमान, वासर, अह्न।
दीन - ग़रीब, दरिद्र, रंक, अकिंचन, निर्धन, कंगाल।
दीपक - दीप, दीया, प्रदीप।
दर्पण शीशा, आरसी, आईना, मुकुर।
दल समूह, झुण्ड, झल, निकर, गण, तोम, वृन्द, पुंज।
दरिद्र गरीब, विपन्न, धनहीन, निर्धन, कंगाल।
दाँत दन्त, रद, दशन, रदन, द्विज, मुखक्षुर।
दुःख पीड़ा, क्लेश, वेदना, यातना, खेद, कष्ट, व्यथा, शोक, यन्त्रणा, सन्ताप, संकट, श्वेद, क्षोभ, विषाद, उत्पीड़न, पीर, लेश।
दुर्गा चंडिका, भवानी, कुमारी, कल्याणी, महागौरी, कालिका, शिवा, चामुण्डा, चण्डी, सुभद्रा, कामाक्षी, काली, अम्बा, शेरावाली, ज्वाला, गौरी।
दुःख- पीड़ा,कष्ट, व्यथा, वेदना, संताप, शोक, खेद, पीर, लेश।
दूध- दुग्ध, क्षीर, पय, गौरस, स्तन्य।
दुष्ट- पापी, नीच, दुर्जन, अधम, खल, पामर।
देह - काया, तन, शरीर, वपु, गात।

धन- दौलत, संपत्ति, सम्पदा, वित्त।
धरती- धरा, धरती, वसुधा, ज़मीन, पृथ्वी, भू, भूमि, धरणी, वसुंधरा, अचला, मही, रत्नवती, रत्नगर्भा।
धनुष- चाप्, शरासन, कमान, कोदंड, धनु।
ध्वजा ध्वज, निशान, केतु, पताका, झण्डा, वैजयन्ती।
ध्वनि आवाज, स्वर, शब्द, नाद, रव।

नदी- सरिता, तटिनी, सरि, सारंग, जयमाला, तरंगिणी, दरिया, निर्झरिणी।
नया- नूतन, नव, नवीन, नव्य।
नाव- नौका, तरणी, तरी।
नर व्यक्ति, जन, मनुष्य, मनुज, आदमी, पुरुष, मानव, काम्य, सौम्य, नृ।
नकुल नेवला, महादेव, वंशरहित, युधिष्ठिर का भाई।
नश्वर नाशवान, क्षणी, क्षणभंगुर, क्षणिक।
नारद ब्रह्मर्षि, देवर्षि, ब्रह्मापुत्र।
नारी महिला, वनिता, ललना, रमणी, स्त्री, कामिनी, औरत, अबला, तिय, भामा, काम्या, सोम्या, भामिनी, अंगना, कलत्र, तरुणी, त्रिया, प्रमदा, भात्रिनी, बारा, तन्वंगी।
नाश विनाश, ध्वंस, क्षय, तबाही, संहार, नष्ट।
निँदा बुराई, अपयश, बदनामी, चुगली
नियति प्रारब्ध, भाग्य, होनी, भावी, दैत्य, होनहार।
निर्मल स्वच्छ, शुद्ध, साफ, उज्ज्वल, पवित्र, पावन।
नौकर अनुचर, सेवक, किँकर, चाकर, भृत्य, परिचारक, दास।

पवन- वायु, हवा, समीर, वात, मारुत, अनिल, पवमान, समीरण, स्पर्शन।
पहाड़- पर्वत, गिरि, अचल, शैल, धरणीधर, धराधर, नग, भूधर, महीधर।
पक्षी- खेचर, दविज, पतंग, पंछी, खग, चिडिया, गगनचर, पखेरू, विहंग, नभचर।
पति- स्वामी, प्राणाधार, प्राणप्रिय, प्राणेश, आर्यपुत्र।
पत्नी- भार्या, वधू, वामा, अर्धांगिनी, सहधर्मिणी, गृहणी, बहु, वनिता, दारा, जोरू, वामांगिनी।
पुत्र- बेटा, आत्मज, सुत, वत्स, तनुज, तनय, नंदन।
पुत्री- बेटी, आत्मजा, तनूजा, सुता, तनया।
पुष्प- फूल, सुमन, कुसुम, मंजरी, प्रसून, पुहुप।
पंडित विद्वान, कोविद, सुधी, मनीषी, बुध, प्राज्ञ, धीर, विचक्षण।
पराग रज, पुष्परज, केशर, कुसुमरज।
पथ राह, रास्ता, मार्ग, बाट, पंथ।
पत्ता पर्ण, पल्लव, दल, किसलय, पत्र।
प्रकाश रोशनी, आलोक, उजाला, प्रभा, दीप्ति, छवि, ज्योति, चमक, विकास।
पत्थर पाषाण, शिला, पाहन, प्रस्तर, उपल।
प्रातः प्रभात, सुबह, अरुणोदय, उषाकाल, अहर्मुख, सवेरा।
पान ताम्बूल, नागरबेल, मुखमंडन, मुखभूषण।
पाला हिम, तुषार, नीहार, प्रालेय।
पाप अघ, पातक, दुष्कृत्य, अधर्म, अनाचार, अपकर्म, जुल्म, अनीत।
पार्वती गिरिजा, शैलजा, उमा, भवानी, शिवा, शिवानी, दुर्गा, अम्बिका, रुद्राणी, कात्यायिनी, गौरी, शंकरी, अपर्णा, गिरितनया, आर्या, मैनादुलारी।
प्रेम प्यार, प्रीति, अनुराग, राग, हेत, स्नेह, प्रणय।
पिताजनक, तात, पितृ, बाप, प्रसवी, पितु, पालक, बप्पा।
पुत्र बेटा, आत्मज, सुत, वत्स, तनुज, तनय, नंदन, लाल, लड़का, पूत, सुवन।
पुत्री बेटी, आत्मजा, तनुजा, सुता, तनया, दुहिता, नन्दिनी, लड़की।
पेड़ विटप, द्रुम, तरु, वृक्ष, पादप, रूख, शारणी, भूरुह, शाखी।
प्यास पिपासा, तृषा, तृष्णा, तिषा, तिष, पिष।
प्रसन्न खुश, हर्षित, प्रसादपूर्ण, आनन्दित।

फूल - पुष्प, सुमन, कुसुम, गुल, प्रसून।

बगीचा - बाग़, वाटिका, उपवन, उद्यान, फुलवारी, बगिया।
बाण - सर, तीर, सायक, विशिख, शिलीमुख, नाराच।
बाल - कच, केश, चिकुर, चूल।
ब्रह्मा - विधि, विधाता, स्वयंभू, प्रजापति, पितामह, चतुरानन, विरंचि, अज, कर्तार, कमलासन, नाभिजन्म, हिरण्यगर्भ।
बलदेव - बलराम, बलभद्र, हलायुध, राम, मूसली, रोहिणेय, संकर्षण।
बहुत - अनेक, अतीव, अति, बहुल, प्रचुर, अपरिमित, प्रभूत, अपार, अमित, अत्यन्त, असंख्य।
ब्राह्मण - द्विज, भूदेव, विप्र, महीदेव, भूमिसुर, भूमिदेव।
बलराम हलधर, मूसली, रेवतीरमण, हली।
बसंत ऋतुराज, माधव, कुसुमाकर, मधुऋतु, मधुमास, मधु।
बहिन सहोदरा, भगिनी, सहगर्भिणी, बान्धवी।
ब्रह्मा अज, विधि, विधाता, सृष्टा, प्रजापति, चतुरानन, चतुर्मुख, नाभिज, सदानन्द, विरंचि, आत्मभू, स्वयंभू, पद्मयोनि, हिरण्यगर्भ, लोकेश, सृष्टा, अब्जयोनि, कमलासन, गिरापति, रजोमूर्ति, हंसवाहन, धाता।
बन्दर वानर, मर्कट, शाखामृग, हरि, लंगूर, कपि, कीश।
बर्फ तुषार, हिम, तुहिन, नीहार।
ब्राह्मण द्विज, विप्र, अग्रजन्मा।
ब्याह शादी, विवाह, परिणय, पाणिग्रहण।
बाघ व्याघ्र, शार्दूल, चित्रक, चीता।
बाज श्येन, शशदिन, कपोतारि।
बाण तीर, शायक, शिलीमुख, नाराच, शर, विशिख, कलाप, आशुग।
बालू रेत, बालुका, सैकत।
बादल पयोद, वारिद, जलद, नीरद, तोयद, अम्बुद, मेघ, पयोधर, जलधर, अब्द, बलाहक, कन्द, अभ्र, घन, पर्जन्य, वारिवाह, तड़ित्वान, सारंग, जीयूत, घुख।
बालक शिशु, बच्चा, शावक।
बिजली शम्पा, शतह्रदा, ह्रादिनी, ऐरावती, क्षणप्रिया, तड़ित, सौदामिनी, विद्युत, चंचला, चपला, दामिनी, बिज्जु, बिजुरी, अशनि, क्षणप्रभा।
बिल्ली मार्जारी, विलास, विड़ाल।

बुद्धि मति, मेधा, धी, मनीषा, प्रज्ञा, अक्ल, विवेक।
बैल वृषभ, वृष, ऋषभ, नंदी, शिखी।

भय - भीति, डर, विभीषिका।
भाई - तात, अनुज, अग्रज, भ्राता, भ्रातृ।
भूषण- जेवर, गहना, आभूषण, अलंकार।
भौंरा - मधुप, मधुकर, द्विरेप, अलि, षट्पद, भृंग, भ्रमर।

मनुष्य- आदमी, नर, मानव, मानुष, मनुज।
मदिरा- शराब, हाला, आसव, मधु, मद।
मोर- केक, कलापी, नीलकंठ, नर्तकप्रिय।
मधु- शहद, रसा, शहद, कुसुमासव।
मृग- हिरण, सारंग, कृष्णसार।मछली- मीन, मत्स्य, जलजीवन, शफरी, मकर।
माता- जननी, माँ, अंबा, जनयत्री, अम्मा।
मित्र- सखा, सहचर, साथी, दोस्त।

यम - सूर्यपुत्र, जीवितेश, श्राद्धदेव, कृतांत, अन्तक, धर्मराज, दण्डधर, कीनाश, यमराज।
यमुना - कालिन्दी, सूर्यसुता, रवितनया, तरणि-तनूजा, तरणिजा, अर्कजा, भानुजा
युवति - युवती, सुन्दरी, श्यामा, किशोरी, तरुणी, नवयौवना।

रमा - इन्दिरा, हरिप्रिया, श्री, लक्ष्मी, कमला, पद्मा, पद्मासना, समुद्रजा, श्रीभार्गवी, क्षीरोदतनया।
रात- रात्रि, रैन, रजनी, निशा, यामिनी, तमी, निशि, यामा, विभावरी।
राजा- नृप, नृपति, भूपति, नरपति, नृप, भूप, भूपाल, नरेश, महीपति, अवनीपति।
रात्रि - निशा, क्षया, रैन, रात, यामिनी, शर्वरी, तमस्विनी, विभावरी।
रामचन्द्र - अवधेश, सीतापति, राघव, रघुपति, रघुवर, रघुनाथ, रघुराज, रघुवीर, रावणारि, जानकीवल्लभ, कमलेन्द्र, कौशल्यानन्दन।
रावण - दशानन, लंकेश, लंकापति, दशशीश, दशकंध, दैत्येन्द्र।
राधिका - राधा, ब्रजरानी, हरिप्रिया, वृषभानुजा।

लड़का - बालक, शिशु, सुत, किशोर, कुमार।
लड़की - बालिका, कुमारी, सुता, किशोरी, बाला, कन्या।
लक्ष्मी- कमला, पद्मा, रमा, हरिप्रिया, श्री, इंदिरा, पद्मजा, सिन्धुसुता, कमलासना।
लक्ष्मण - लखन, शेषावतार, सौमित्र, रामानुज, शेष।
लौह - अयस, लोहा, सार।लता - बल्लरी, बल्ली, बेली।

वायु - हवा, पवन, समीर, अनिल, वात, मारुत।
वसन - अम्बर, वस्त्र, परिधान, पट, चीर।
विधवा - अनाथा, पतिहीना, राँड़।
विष- ज़हर, हलाहल, गरल, कालकूट।
वृक्ष- पेड़, पादप, विटप, तरू, गाछ, दरख्त, शाखी, विटप, द्रुम।
विष्णु- नारायण, दामोदर, पीताम्बर, चक्रपाणी।
विश्व - जगत, जग, भव, संसार, लोक, दुनिया।
विद्युत - चपला, चंचला, दामिनी, सौदामिनी, तड़ित, बीजुरी, घनवल्ली, क्षणप्रभा, करका।
वारिश - वर्षण, वृष्टि, वर्षा, पावस, बरसात।
वीर्य - जीवन, सार, तेज, शुक्र, बीज।
वज्र - कुलिस, पवि, अशनि, दभोलि।
विशाल - विराट, दीर्घ, वृहत, बड़ा, महा, महान।
वृक्ष - गाछ, तरु, पेड़, द्रुम, पादप, विटप, शाखी।

शिव- भोलेनाथ, शम्भू, त्रिलोचन, महादेव, नीलकंठ, शंकर।
शरीर- देह, तनु, काया, कलेवर, अंग, गात।
शत्रु- रिपु, दुश्मन, अमित्र, वैरी, अरि, विपक्षी, अराति।
शिक्षक- गुरु, अध्यापक, आचार्य, उपाध्याय।
शेर - केहरि, केशरी, वनराज, सिंह, शार्दूल, हरि, मृगराज।
शेषनाग - अहि, नाग, भुजंग, व्याल, उरग, पन्नग, फणीश, सारंग।
शुभ्र - गौर, श्वेत, अमल, वलक्ष, शुक्ल, अवदात।
शहद - पुष्परस, मधु, आसव, रस, मकरन्द।

श्र
षषंड - हीजड़ा, नपुंसक, नामर्द।
षडानन - षटमुख, कार्तिकेय, षाण्मातुर।

सीता - वैदेही, जानकी, भूमिजा, जनकतनया, जनकनन्दिनी, रामप्रिया।
साँप- अहि, भुजंग, ब्याल, सर्प, नाग, विषधर, उरग, पवनासन।
सूर्य- रवि, सूरज, दिनकर, प्रभाकर, आदित्य, दिनेश, भास्कर, दिनकर, दिवाकर, भानु, अर्क, तरणि, पतंग, आदित्य, सविता, हंस, अंशुमाली, मार्तण्ड।
संसार- जग, विश्व, जगत, लोक, दुनिया।
सोना- स्वर्ण, कंचन, कनक, हेम, कुंदन।
सिंह- केसरी, शेर, महावीर, हरि, मृगपति, वनराज, शार्दूल, नाहर, सारंग, मृगराज।
समुद्र- सागर, पयोधि, उदधि, पारावार, नदीश, जलधि, सिंधु, रत्नाकर, वारिधि।
सम - सर्व, समस्त, सम्पूर्ण, पूर्ण, समग्र, अखिल, निखिल।
समीप - सन्निकट, आसन्न, निकट, पास।
समूह- दल, झुंड, समुदाय, टोली, जत्था, मण्डली, वृंद, गण, पुंज, संघ, समुच्चय।
सभा - अधिवेशन, संगीति, परिषद, बैठक, महासभा।
सुन्दर - कलित, ललाम, मंजुल, रुचिर, चारु, रम्य, मनोहर, सुहावना, चित्ताकर्षक, रमणीक, कमनीय, उत्कृष्ट, उत्तम, सुरम्य।
सन्ध्या - सायंकाल, शाम, साँझ, प्रदोषकाल, गोधूलि।
स्त्री- सुन्दरी, कान्ता, कलत्र, वनिता, नारी, महिला, अबला, ललना, औरत, कामिनी, रमणी।
सुगंधि- सौरभ, सुरभि, महक, खुशबू।
स्वर्ग- सुरलोक, देवलोक, दिव्यधाम, ब्रह्मधाम, द्यौ, परमधाम, त्रिदिव, दयुलोक।
स्वर्ण - सुवर्ण, कंचन, हेन, हारक, जातरूप, सोना, तामरस, हिरण्य।
सरस्वती - गिरा, शारदा, भारती, वीणापाणि, विमला, वागीश, वागेश्वरी।
सहेली - आली, सखी, सहचरी, सजनी, सैरन्ध्री।
संसार - लोक, जग, जहान, जगत, विश्व।

हस्त - हाथ, कर, पाणि, बाहु, भुजा।
हिमालय- हिमगिरी, हिमाचल, गिरिराज, पर्वतराज, नगेश।
हिरण - सुरभी, कुरग, मृग, सारंग, हिरन।होंठ - अक्षर, ओष्ठ, ओंठ।
हनुमान - पवनसुत, पवनकुमार, महावीर, रामदूत, मारुततनय, अंजनीपुत्र, आंजनेय, कपीश्वर, केशरीनंदन, बजरंगबली, मारुति।
हिमांशु - हिमकर, निशाकर, क्षपानाथ, चन्द्रमा, चन्द्र, निशिपति।
हंस - कलकंठ, मराल, सिपपक्ष, मानसौक।हृदय- छाती, वक्ष, वक्षस्थल, हिय, उर।हाथ- हस्त, कर, पाणि।
हाथी- नाग, हस्ती, राज, कुंजर, कूम्भा, मतंग, वारण, गज, द्विप, करी, मदकल

पर्यायवाची शब्द, समानार्थी शब्द (Paryayvachi Shabd in Hindi) पर्यायवाची शब्द, समानार्थी शब्द (Paryayvachi Shabd in Hindi) Reviewed by ADMIN on 01:09 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.