सांप्रदायिकता (Communalism) का क्या अर्थ है?


सांप्रदायिकता (Communalism) उस राजनीति को कहा जाता है जो धार्मिक समुदायों के बीच विरोध और झगडे़ पैदा करती है | ऐसी राजनीति धार्मिक पहचान को बुनियादी और अटल मानती है | सांप्रदायिक राजनीतिज्ञों की कोशिश रहती है कि धार्मिक पहचान को मजबूत बनाया जाए | वे इसे एक स्वाभाविक अस्मिता मान कर प्रस्तुत करते हैं, मानो लोग ऐसी पहचान लेकर पैदा हुए हों, मानो अस्मिताएँ इतिहास और समय के दौर से गुजरते हुए बदलती नहीं हैं |

सांप्रदायिकता किसी भी समुदाय में एकता पैदा करने के लिए आंतरिक फर्को को दबाती है, उस समुदाय की एकता पर जोर देती है, और उस समुदाय को किसी न किसी अन्य समुदाय के खिलाफ लड़ने के लिए प्रेरित करती है |

यह कहा जा सकता है कि सांप्रदायिकता किसी चिन्हित गैर के खिलाफ घृणा की राजनीति को पोषित करती है | मुस्लिम सांप्रदायिकता हिंदुओं को गैर बता कर उनका विरोध करती है और ऐसे ही हिंदू सांप्रदायिकता मुसलमानों को गैर समझ कर उनके खिलाफ डटी रहती है | इस पारस्परिक घृणा से हिंसा की राजनीति को बढ़ावा मिलता है |

इसका अर्थ है कि सांप्रदायिकता धार्मिक अस्मिता का विशेष तरह से राजनीतिकरण है जो धार्मिक समुदायों में झगड़े पैदा करवाने की कोशिश करता है | किसी भी बहु-धार्मिक देश में धार्मिक राष्ट्रवादय् शब्दों का अर्थ भी सांप्रदायिकता के करीब- करीब हो सकता है | ऐसे देश में अगर कोई व्यक्ति किसी धार्मिक समुदाय को राष्ट्र मानता है तो वह विरोध और झगड़ों के बीज बो रहा है |

सांप्रदायिकता (Communalism) का क्या अर्थ है? सांप्रदायिकता (Communalism) का क्या अर्थ है? Reviewed by ADMIN on 05:54 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.