विटामिन (Vitamins) और उसकी कमी से होने वाले रोग व कमियां


विटामिन की कमी से होने वाले रोग व कमियां – Vitamin deficiency diseases and their drawbacks. हमारे शरीर में बहुत सारे रोग विटामिन (Vitamins) की कमियों की वजह से होते हैं इन रोगों की वजह से हमें काफी परेशानी उठानी पडती है तो आइये जानते हैं |

vitamins-and-their-deficiency-diseases-in-hindi

विटामिन की कमी से होने वाले रोग


विटामिन
रोग
स्रोत
विटामिन ए
रतौंधीसांस की नली में परत पडऩा
मक्खनघीअण्डा एवं गाजर
विटामिन बी1
बेरी-बेरी
दाल खाद्यान्नअण्डा व खमीर
विटामिन बी2
डर्मेटाइटिसआँत का अल्सर,जीभ में छाले पडऩा
पत्तीदार सब्जियाँमाँसदूधअण्डा
विटामिन बी3
चर्म रोग व मुँह में छाले पड़ जाना
खमीरअण्डामांसबीजवाली सब्जियाँहरी सब्जियाँ आदि
विटामिन बी6
चर्म रेग
दूधअंडे की जर्दीमटन आदि

• vitamin A – रतौंधीहाइपरकेराटोसिस
• vitamin B1 – बेरीबेरी
• vitamin B2 – ऐरीवसेफ्लेवनोसिस
• vitamin B3 – पेलिग्रा
• vitamin B5 – पेस्थेरसिया
• vitamin B6 – एनीमिया
• vitamin B7 – डर्मीटेटिस
• vitamin B9 – बर्थ डिफेक्ट स
• vitamin B12 – मेगालोब्ला्स्टिक एनीमिया
• vitamin C – स्कार्वी
• vitamin D – रिकेट्स
• vitamin E – हीमोलाइटिक एनीमिया
• vitamin K – ब्लीलडिंग डाइथेसिस

विटामिन क्या होते हैं
विटामिन एक प्रकार के आर्गेनिक कम्पाटउंड होते हैं जो शरीर को चलाने में मदद करते हैं। बॉडी के हर पार्ट को उसके कार्य के हिसाब से अलग – अलग विटामिन की जरूरत पड़ती है। एक बात और मनुष्यो और जानवर के शरीर को अलग – अलग विटामिन की जरूरत पड़ती है जैसे – मनुष्य के शरीर को विटामिन C की जरूरत पड़ती है वहीं जानवरों को उसी कार्य के लिए विटामिन D की जरूरत पड़ती है। विटमिन (vitamin) या जीवन सत्व भोजन के अवयव हैं जिनकी सभी जीवों को अल्प मात्रा में आवश्यकता होती है। रासायनिक रूप से ये कार्बनिक यौगिक होते हैं। उस यौगिक को विटामिन कहा जाता है जो शरीर द्वारा पर्याप्त मात्रा में स्वयं उत्पन्न नहीं किया जा सकता बल्कि भोजन के रूप में लेना आवश्यक हो।
  • विटामिन ए
  • विटामिन सी
  • विटामिन डी
  • विटामिन इ
  • विटामिन बी
  • विटामिन सी
विटामिन सी एक सोडियम आयन निर्भर चैनल का उपयोग करके आंतों द्वारा अवशोषित कर लेता है। विटामिन सी या एल-एस्कॉर्बिक अम्ल मानव एवं विभिन्न अन्य पशु प्रजातियों के लिये अत्यंत आवश्यक पोषक तत्त्व है। ये विटामिन रूप में कार्य करता है। यह दोनों ग्लूकोज के प्रति संवेदनशील और ग्लूकोज असंवेदनशील तंत्र के माध्यम से आंत के माध्यम से ले जाया जाता है। आंतों या रक्त में शर्करा की एक बड़ी मात्रा की उपस्थिति अवशोषण धीमा कर सकते हैं।

भोजन तैयार करना
विटामिन सी रासायनिक जिनमें से कई हो सकती है के खाना पकाने के दौरान कतिपय शर्तों के अधीन ऊपर मिटता। विटामिन सी सांद्रता विभिन्न खाद्य पदार्थों में तापमान के अनुपात में समय वे में संग्रहीत किए जाते हैं के साथ घट जाती हैं और के रूप में यह हो सकता है और अधिक महत्वपूर्ण तापमान sub-boiling पर खाना पकाने विटामिन सी की सामग्री सब्जियों के लगभग 60% से संभवत: आंशिक रूप से वृद्धि हुई enzymatic विनाश के कारण कम कर सकते हैं। के रूप में खाद्य वेसल्सजो प्रयोग के अपघटन catalyse तांबे की जाएगी अब खाना पकाने बार भी इस प्रभाव को जोड़ें। शोध भी दिखा दिया है कि ताजा कटौती फल जब फ्रिज में कुछ दिनों के लिए संग्रहीत महत्वपूर्ण पोषक तत्वों खोना नहीं।

गुण
विटामिन-सी शरीर की मूलभूत रासायनिक क्रियाओं में यौगिकों का निर्माण और उन्हें सहयोग करता है। शरीर में विटामिन सी कई तरह की रासायनिक क्रियाओं में सहायक होता है जैसे कि तंत्रिकाओं तक संदेश पहुंचाना या कोशिकाओं तक ऊर्जा प्रवाहित करना आदि। इसके अलावाहड्डियों को जोड़ने वाला कोलाजेन नामक पदार्थरक्त वाहिकाएंलाइगामेंट्सकार्टिलेज आदि अंगों को भी अपने निर्माण के लिए विटामिन सी वांछित होता है। यही विटामिन कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रित करता है।

विटामिन ए
विटामिन ए की कमी के रूप में या तो एक प्राथमिक या माध्यमिक कमी आ सकती है। एक प्राथमिक विटामिन ए की कमी बच्चों और वयस्कोंजो पीली और हरी सब्जियांफल और जिगर की एक पर्याप्त मात्रा का उपभोग नहीं के बीच होता है। जल्दी प्रातः भी विटामिन ए की कमी का खतरा बढ़ सकता है। द्वितीयक विटामिन ए की कमी lipids, बिगड़ा पित्त उत्पादन और रिलीजकम वसा वाले आहारऔर पुराने निवेश oxidants, जैसे कि सिगरेट के धुएँ की जीर्ण malabsorption के साथ जुड़ा हुआ है। विटामिन ए की पर्याप्त आपूर्ति के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है गर्भवती और स्तनपान महिलाके बाद से कमियों प्रसवोत्तर अनुपूरण द्वारा मुआवजा दिया जा सकता… हालांकिअतिरिक्त विटामिन एविटामिन की पूरकताके माध्यम से विशेष रूप से जन्म दोष उत्पन्न कर सकते हैं और सिफारिश की दैनिक मान से अधिक नहीं होनी चाहिए।

विटामिन आंखों से देखने के लिये अत्यंत आवश्यक होता है। साथ ही यह बीमारी से बचने के काम आता है। यह विटामिन शरीर में अनेक अंगों को सामान्य रूप में बनाये रखने में मदद करता है जैसे कि स्किनबालनाखूनग्रंथिदांतमसूडा और हड्डी।सबसे महत्वपूर्ण स्थिती जो कि सिर्फ विटामिन ए के अभाव में होता हैवह है अंधेरा में कम दिखाई देनाजिसे रतौधि (Night Blindness) कहते हैं। इसके साथ आंखों में आंसू के कमी से आंख सूख जाते हैंऔर उसमें घाव भी हो सकता है। बच्चों में विटामिन ए के अभाव में विकास भी धीरे हो जाता हैजिससे कि उनके कद पर असर कर सकता है। स्किन और बालों में भी सूखापन हो जाता है और उनमें से चमक चली जाती है। संक्रमित बीमारी होने की संभावना बढ जाती है।

पर्याप्त विटामिन डी के बिनाहड्डियोंपतली भंगुर हैया कुरूप बन सकता है. की कमी से अपर्याप्त धूप के साथ मिलकर अपर्याप्त सेवन से उत्पन्न कर सकते हैंविकारों कि उसके अवशोषण की सीमाशर्तों है कि जिगर या गुर्दे विकार के रूप में सक्रिय चयापचयोंमें विटामिन डी का रूपांतरण ख़राबयाशायद ही कभी वंशानुगत विकारों का एक नंबर के द्वारा. बिगड़ा अस्थि खनिज में विटामिन डी की कमी के परिणाम और हड्डी की ओर जाता है रोगबच्चों और वयस्कों में अस्थिमृदुता में रिकेट्सऔर संभवतः ऑस्टियोपोरोसिस के लिए योगदान देता है नरम. विटामिन डी 2 रासायनिक 1932 में विशेषता थी. 1936 में विटामिन डी 3 की रासायनिक संरचना स्थापित किया गया था और 7-dehydrocholesterol की पराबैंगनी विकिरण से हुई.
* विटामिन डी2 या अर्गोकैल्सिफेरॉल ( Vitamin D2 or Ergocalciferol)
* विटामिन डी3 या कोलेकेलसीफेरोल (Vitamin D3 or Cholecalciferol)

यह शरीर के हड्डीयों को बनाने और संभाल कर रखने में मदद करता है। साथ ही यह शरीर में केलसियम (calcium) के स्तर को नियंत्रित रखता है। इसके अभाव में हड्डी कमजोर होता है और टूट भी सकता है (फ्रेकचर या Fracture)। बच्चों में इस स्थिती को रिकेटस (Rickets) कहते हैंऔर व्यस्क लोगों में हड्डी के मुलायम होने को ओस्टीयोमलेशिया (osteomalacia) कहते हैं। इसके अलावाहड्डी के पतला और कमजोर होने को ओस्टीयोपोरोसिस कहते हैं।

इससे शरीर के विभिन्न अंगों मेंजैसे कि गुर्दे मेंदिल मेंखून के नसों में और अन्य जगह मेंएक प्रकार का पथरी हो सकता हैयह [[केल्सियम]] (calcium) का बना होता है। इससे बल्ड प्रेशर या रक्तचाप बढ सकता हैखून में कोलेसटेरोल अधिक हो सकता हैऔर दिल पर असर पर सकता है। साथ ही चक्कर आनाकमजोरी लगना और सिरदर्द हो सकता है। पेट खराब होने से दस्त भी हो सकता है।अंडे का पीला भाग (egg yolk), मछली के तेलविटामिन डी युक्त दूध और बटर मेंऔर धूप सेकने से।

विटामिन ई
विटामिन इखून में रेड बल्ड सेल या लाल रक्त कोशिका (Red Blood Cell) को बनाने के काम आता है। यह विटामिन शरीर में अनेक अंगों को सामान्य रूप में बनाये रखने में मदद करता है जैसे कि मांस-पेशियांअन्य टिशू। यह शरीर को ओक्सिजन के एक नुकसानदायक रूप से बचाता हैजिसे ओक्सिजन रेडिकल्स (oxygen radicals) कहते हैं। इस गुण को एंटीओक्सिडेंट (anti-oxidants) कहा जाता है। विटामिन इसेल के अस्तित्व बनाय रखने के लियेउनके बाहरी कवच या सेल मेमब्रेन को बनाय रखता है। विटामिन इशरीर के फैटी एसिड को भी संतुलन में रखता है।

विटामिन ई की विशेष रूप से उच्च स्तर निम्न खाद्य पदार्थों में पाया जा सकता है:
• Asparagus
• Avocado
• अंडा
• दूध
• पागलजैसे कि बादाम या hazelnuts
• बीज
• पालक और अन्य हरी पत्तेदार सब्जियां
• Unheated वनस्पति तेलों
• गेहूं के बीज
• खाएँ फूड्स
विटामिन (Vitamins) और उसकी कमी से होने वाले रोग व कमियां विटामिन (Vitamins) और उसकी कमी से होने वाले रोग व कमियां Reviewed by ADMIN on 21:56 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.